श्री कृष्ण कहते है अच्छा वक्त आने से पहले मिलते है ये 7 संकेत | Vastu Shastra

श्री कृष्ण कहते है अच्छा वक्त आने से पहले मिलते है ये 7 संकेत.

नुकसान फायदा खुशी और गम यह सभी जीवन के महत्वपूर्ण अंग है. कभी जीवन में खुशियों की धूप होती तो कभी दुख के बादल भी छा जाते हैं. उतार-चढ़ाव तो आते ही रहते हैं. और यह हमेशा समय चक्र के कारण होता है. समय से बलवान कुछ भी नहीं हैं, समय के आगे सब झुक जाते हैं. आपने अपनी जिंदगी में भी कई सारी व्यक्तियों को अर्श से फर्श पर और रंक से राजा बनते भी देखा होगा. समय वह हथियार है जिसका घाव तेज होता है. और कोई उसे भर नहीं सकता. पर हम कैसे जान सकते हैं. हमारे समय चक्र का दौर कैसा होने वाला है. समय हमारे लिए खुशियों के द्वार खोलेगा या संकट के द्वार. ऐसे ही कई सारे प्रश्न आपके मन में भी उत्पन्न होते होंगे. इसलिए आज हम आपको बताएंगे कुछ ऐसे संकेतों के बारे में जिससे आपको अपने आने वाले शुभ समय के बारे में पता चल सकता है.

जब नारद मुनि वैकुंठ धाम पहुंचे थे तो उन्होंने भगवान श्री हरि विष्णु जी से इन संकेतों के बारे में पूछा था. श्री हरि विष्णु जी ने बताया मनुष्य के पास कुछ ऐसे संकेत पहुंचाते हैं. जिससे वह अपने आने वाले समय के बारे में जान सकते हैं. और यह संकेत प्रकृति द्वारा, पशुओं द्वारा, शुभ संकेतों द्वारा, या मेरे भक्तों द्वारा भी हो सकते हैं. सिर्फ मनुष्य को ही उन्हें जानने की आवश्यकता पड़ती है. तो आइए आपको बताते हैं उन संकेतों के बारे में जो स्वयं भगवान विष्णु ने बताए हैं.

1. अगर आपकी आंख ब्रह्म मुहूर्त में खुले और आपको ईश्वर का स्मरण हो जाए या आपको ऐसा प्रतीत हो जैसे आपको कोई किसी दिशा की ओर ले जा रहा है. तो समझ जाइए कामयाबी के नए द्वार खुलने वाले हैं. आपको अपने जीवन की योग्यता मिलने वाली है. जिस पर ईश्वर स्वयं आप का समर्थन करेंगे. अगर आपकी भी आंख ब्रह्म मुहूर्त पर खुलती है. तो हमें कमेंट में अवश्य बताएं

2. आपने अगर महसूस किया हो तो कई बार आपका मन बिना कारण ही प्रसन्न रहता है. आपका चेहरा खिला हुआ और मुस्कान से भरा हुआ रहता है. और आप क्रोध से परे हो जाते हैं. यह संकेत दर्शाते हैं कि आपके जीवन में खुशियों की दस्तक होने वाली है. जिसे आप सदैव ही प्रफुल्लित रहेंगे. ऐसे समय में हम जिस चीज के बारे में कभी भी सोचते नहीं है. उस चीज के बारे में हमें खुशखबरी जरूर मिल जाती है. हमारे मन के अंदर ईश्वर का वास होता है. इसलिए मन का प्रसन्न रहना सबसे बड़ा शुभ संकेत माना जाता है. क्या आपको कभी ऐसा महसूस हुआ है.

3. अगर आपके घर में गौ माता बार-बार द्वार पर कुछ खाने को आ जाए, बंदर आपके घर से चीजें खुद उठा कर ले जाए, आपके घर में बिल्ली अपने बच्चों को जन्म दे और पंछी आपके आंगन में ही अपना डेरा बनाएं और चहकते रहे. ऐसे शुभ संकेत दर्शाते हैं कि आपका आने वाला समय आपको बलवान बनाएगा. जिससे आप अपने जीवन में एक योग्य पद पर पहुंचने वाले हैं.

4. छोटे बच्चों में ईश्वर खुद बसते हैं. ऐसा हम सभी मानते हैं. अगर कोई छोटी कन्या या शिशु आपको देखकर बार-बार मुस्कुराए या आपके घर में उनका आगमन हो पिया वह आपके आंगन में खुशी से खेलें. तो यह भी बहुत ही शुभ संकेत माना जाता है. आपका जीवन भी मुस्कान और नई खुशियों से भरने वाला है. और नए रिश्ते आपके जीवन से जुड़ने वाले हैं. ऐसे संकेत आपको ईश्वर की कृपा से ही प्राप्त हो रहे हैं.

5. कई समय से चल रहे खर्च अकारण, आने वाले संकट टलने लग जाए. और धन के नए स्रोत खुलने लग जाए. तो इन सब संकेतों से समझ जाइए कि आपका बुरा वक्त अब जाने वाला है. और धन आपके घर में जरूर टिकेगा. मां लक्ष्मी का आपके घर में आगमन होगा.

6. पूजा की थाली में फूल माला या चंदन का गिरना. या ईश्वर की मूर्ति आपको देखकर मुस्कुरा रही हो, ऐसा प्रतीत होना. घर में प्रिय अतिथियों का आगमन घर में चांदी और सोने का आना. महिलाओं के बाएं और पुरुषों के दाहिने अंगों का फड़कना बहुत ही शुभ माना जाता है. यह सारे संकेत आपको आने वाली शुभ समय के बारे में सूचित करते हैं.

7. सुबह-सुबह आप घर से किसी शुभ कार्य के लिए निकले और आपको गौ माता की दर्शन हो जाए या आपको किसी संत साधु महाराज या पुजारी का आशीर्वाद प्राप्त हो जाए तो यह बहुत ही शुभ संकेत माना जाता है. इसका अर्थ यह है कि आप जिस कार्य के लिए निकले यह कार्य अवश्य ही सफल होगा. उस कार्य में आपको सफल होने से कोई नहीं रोक पाएगा.

8. संध्या काल के समय जल से या दूध से भरा पात्र किसी के द्वारा आपको प्राप्त हो या कोई मीठी वस्तु आपको प्राप्त हो जाए तो यह संकेत भी आपके जीवन में शुभ समय के आगमन को सूचित करते हैं.
तो दोस्तों यह थे वह कुछ संकेत जो मनुष्य को ईश्वर कृपा प्राप्त होने का संकेत देते हैं. अगर आपको भी ऐसे संकेत मिलते हैं. तो कमेंट में अवश्य बताएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *