Why Gold is cheap in dubai in hindi

Why Gold is cheap in dubai in hindi दुबई में सोना इतना सस्ता क्यों है

दोस्तों क्या आप यह बात जानते हैं कि दुबई में आखिर सोना इतना सस्ता क्यों मिलता है. आपको शायद यह भी नहीं पता होगा कि दुबई में सोना कितने रुपए किलो के हिसाब से मिलता है. दुबई में सोना इतना ज्यादा सस्ता है कि वहां के छोटे-छोटे बच्चे भी सोने से बनी हुई कारों को चलाते हैं. आप लोगों ने दुबई की लाइफ स्टाइल और वहां के अमीर जादो के बारे में पढ़ा होगा. इसलिए अब हम आपको वहां के सोने के बारे में बताएंगे. दुबई ही एक ऐसी जगह है जहां पर आप को सबसे सस्ता शुद्ध और टिकाऊ सोना मिलेगा. इसीलिए यहां पर लगभग 1200 टर्न सोने का बिज़नेस होता है. चलिए दोस्तों आपको बताते हैं कि आखिर दुबई के सोने में ऐसा क्या है. कि वहां की शान और शौकत की चमक इसके के आगे फीकी पड़ जाती है.
अक्सर लोग ऐसा सोचते हैं कि आखिर दुबई में ऐसा क्या है कि लोग वहां पर सोना खरीदने के लिए जाते हैं. और आखिरकार दुबई को ही सिटी ऑफ गोल्ड क्यों कहा जाता है. दोस्तों जिस तरह दुबई में टूरिज़्म और तेल से पैसा आता है. उसी तरह दुबई की इनकम का बड़ा जरिया सोना भी है. यही कारण है कि दुनिया की सबसे बड़ी बड़ी कंपनियों ने एक से बढ़कर एक बड़े बड़े शोरूम दुबई में खोल रखे हैं. दुबई में Gold Souq नाम की एक जगह है. जहां पर 1000 छोटी बड़ी सोने की दुकाने हैं. और इसी जगह पर हर रोज हजारों किलो सोने का व्यापार होता है. आपको यह बात पता नहीं होगी सोने की ज्वेलरी से संबंधित बड़े-बड़े कमर्शियल मेले दुबई में ही लगाए जाते हैं. इसी वजह से यहां पर लगने वाले मेलों में दुनिया के नामी ग्रुप शामिल होते हैं. दोस्तों आपको यह तो पता ही चल गया होगा कि यहां पर नुकसान का तो कोई सवाल ही पैदा नहीं होता. क्योंकि यहां पर कच्चा माल साउथ अफ्रीका से लाया जाता है. और इस कच्चे माल से तरह-तरह की ज्वेलरी तैयार की जाती है. उसके बाद इस पर दुबई की मोहर लगने के बाद इसको हाथों हाथ खरीद लिया जाता है. दुबई से सोने की ख़रीददारी में इंडिया और चाइना के लोग सबसे आगे हैं. इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि यहां पर 1200 टर्न बिज़नेस होता है.
आपको यह भी बता दें कि दुबई के गोल्ड इन्वेस्टमेंट में इंडिया के लोग सबसे आगे हैं. क्योंकि दुबई में भारी संख्या में भारतीय लोग रहते हैं. 2018 तक दुबई जाने वाले भारतीयों की संख्या 20 लाख से ऊपर चली गई है. इसके अलावा भारतीय लोगों को सोना कितना ज्यादा पसंद होता है. इसके बारे में तो आप बाखूबी जानते ही होंगे. क्योंकि यहां पर तो सोने से ही इंसान की अमीरी गरीबी का पता चल जाता है. इसलिए दुबई में ज्यादातर भारतीय लोग ही सोना खरीदने के लिए जाते हैं. इसके अलावा पाकिस्तान से लेकर सिंगापुर, न्यूयॉर्क और यहां तक कि अमेरिका के लोग भी दुबई से सोना खरीदने में किसी से कम नहीं है. आप लोगों को यह बात पता नहीं होगी कि दुबई के गोल्ड मार्केट में 4086 कंपनी और 62125 इन्वेस्टर मौजूद हैं. जिसमें लगभग 60000 आदमी बिजनेसमैन है. और बाकी की औरतें बिजनेस वूमेन है. यहां पर जो कंपनियां हैं उन्हें 2498 लाइसेंस जारी किए गए हैं. कुछ बीते सालों में दुबई में डायमंड ज्वेलरी और गोल्ड की बिक्री 274 अरब दिराम तक पहुंच गई है. जो कि पिछले सालों के मुकाबले बहुत ही ज्यादा थी. दुबई में लगभग 30 देशों से सोने को आयात किया जाता है. ता जो यहां पर आने वाले लोगों को निराश ना होना पड़े. क्योंकि अगर आप दुबई की शान और शौकत रहन सहन देखेंगे तो आपको अंदाजा लग जाएगा की दुबई वहां पर टूरिज्म को कितना बढ़ावा दे रहा है. अब ऐसे भी कह सकते हैं कि दुबई की आधी इक्नॉमी सिर्फ टूरिज्म पर ही चलती है. तो भी यह बात बिल्कुल गलत नहीं होगी. लेकिन फिर भी आप कभी दुबई की नाइट लाइफ या चमक-दमक को देखने जाएं तो एक ना एक बार यहां की Gold Souq मार्केट तो जरूर घूमना. जिससे आपको भी पता लग जाएगा कि दुनिया दुबई को गोल्ड ऑफ सिटी नाम से क्यों जानती है. क्योंकि अगर आप एक बार इस मार्केट में चले जाएंगे तो आपको पता चल जाएगा कि असली सोने की चमक कैसी होती है. आप जो सोना खरीदते हैं. उसमें कितनी मिलावट होती है. यह बात तो आप जानते ही होंगे. लेकिन जब आप दुबई के सोने को अपने हाथ में लोगे तो आपको पता चलेगा कि आखिर में असली सोना होता क्या है. 
दुबई के सोने की इतनी ज्यादा तारीफ सुनने के बाद आपके दिमाग में यह सवाल जरूर चल रहा होगा कि आखिर लोग दुबई से ही सोना क्यों खरीदते हैं. तो दोस्तों हम आपको बता दें कि इस चीज के भी कई कारण हैं. 
सबसे पहले तो यह है कि दुबई में सोना काफी ज्यादा सस्ता है. और दूसरा यह कि दुबई का सोना बिल्कुल शुद्ध होता है. क्योंकि यहां के सोने में मिलावट का तो सवाल ही पैदा नहीं होता. ऐसा इसलिए है क्योंकि वहां की सरकार का एक नियम है कि सोने में किसी भी तरह की मिलावट को कभी भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. और इसी कारण सोने की शुद्धता को यहां पर मापा जाता है. इन सब चीजों से आप समझ गए होंगे कि यहां पर तो सोने की मार्केट है. उस पर दुबई की गवर्नमेंट का एक अच्छा खासा कंट्रोल होता है. क्योंकि यहां पर बेची जाने वाली चीजों को पहले अच्छे से जाचा और परखा जाता है. खासकर अगर वह चीज सोना हो तो उसको तो बड़े ही अच्छे तरीके से चेक किया जाता है. और फिर उसकी शुद्धता पर होल मार्क लगाया जाता है. इसके अलावा हॉल मार्क के साथ-साथ एक सर्टिफिकेट दिया जाता है. जिस पर सोने का वजन पत्थरों की लागत और लेबर कॉस्ट सब लिखी होती है. इसलिए अब आप दुबई से खरीदा हुआ सोना कहीं भी बेच सकते है. जब आपके सामने वाला इस सोने के सर्टिफिकेट को देखता है. तो वह आंख बंद करके आपको सोने की कीमत दे देगा. लेकिन दोस्तों आप एक बात को ध्यान में रखें. अगर कोई शख्स 1 साल या उससे ज्यादा वक्त तक किसी देश में रहता है. तो वह उस देश से 50000 तक का सोना बिना किसी कस्टम ड्यूटी के अपने देश ला सकता है. लेकिन साथ में ही हम आपको यह भी बता दें कि यह नियम सिर्फ ज्वेलरी पर लागू होता है. अगर आप सिक्के या बिस्कुट के रूप में सोने को लाना चाहोगे तो आपको कस्टम ड्यूटी देनी ही पड़ेगी. इसीलिए अगर आप की ज्वेलरी 50,000 से ज्यादा होगी तो आपको कस्टम ड्यूटी देनी ही पड़ेगी. इसीलिए साथ ही आप यह बात भी जान लीजिए कि आपके शरीर में पहने हुए सोने पर भी यह नियम लागू किया जाता है. फिर चाहे वह एक छोटी सी अंगूठी ही क्यों ना हो. इसलिए जब कभी भी आप किसी देश में सोना खरीदने के लिए जाए तो उसकी रसीद भी अपने साथ जरूर रखें. ताजो आपको लौटते वक्त कोई भी परेशानी ना उठानी पड़े. दोस्तों दुबई के सोने के बारे में इतना कुछ जान कर आपका भी सोने को खरीदने का मन तो जरूर कर रहा होगा. तो इसीलिए आपको भी एक बार दुबई की मार्केट में जरूर जाना ही चाहिए. और इसके बाद हमें आप कमेंट करके जरूर बताएं कि आपको यह जानकारी कैसी लगी. और साथ ही दोस्तों इसको अपने दोस्तों के साथ शेयर करें.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *